Thursday, December 9, 2010

क्या सन्देश दे रहे हैं आज के टीव्ही कार्यक्रम हमें?

सामान्यतः मैं टीव्ही के कार्यक्रम नहीं देखा करता और यदि कभी अपनी पसन्द का कोई कार्यक्रम देखना भी चाहूँ तो देख नहीं सकता क्योंकि घर के किशोर या युवा बच्चों को उसी समय बिग बॉस देखना जरूरी होता है। बिग बॉस के एक दो एपीसोड मैंने देखे तो स्वाभाविक रूप से मेरे भीतर एक प्रश्न उभरा कि क्या सन्देश दे रही हैं आज के टीव्ही कार्यक्रम हमें?

क्या बिग बॉस के घर में कुछ ऐसा हो रहा है जिससे हमारी युवा पीढ़ी को कुछ अच्छा ज्ञान मिल सके या हमारे समाज का और हमारे देश का उत्थान हो सके?

आखिर रियलिटी शो के नाम से प्रसारित होने वाले आज के टीव्ही कार्यक्रमों में क्या कुछ भी ऐसा है जो हमारे आगे बढ़ने में किसी भी प्रकार से सहायक हो सके?

आखिर क्यों ये कार्यक्रम आज की युवा पीढ़ी के लिए आदर्श बने हुए हैं?

इस बात को तो प्रायः सभी मानते हैं कि सिनेमा और टीव्ही देश के जन-सामान्य, विशेषतः कच्ची उम्र के बच्चों पर सर्वाधिक प्रभाव डालते हैं।

आज टीव्ही पर जिन कार्यक्रमों का प्रसारण हो रहा है, वे विष परोस रहे हैं या अमृत?

क्या उनका प्रभाव हमारे समाज पर नहीं पड़ेगा?

9 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

टी० वी० कार्यक्रम केवल अपनी टी आर पी बढा रहे हैं ....किस पर क्या असर होता है इसकी फ़िक्र नहीं है ...बिग बॉस जैसे कार्यक्रम बहुत ही बेहूदा हैं ...( शब्द ज़रा खराब प्रयोग किया है ) पर उस को देख कर जो मन में आया कह दिया ..

Rahul Singh said...
This comment has been removed by the author.
Rahul Singh said...

ताक-झांक करना जिन्‍हें पसंद है, वे बिना किसी अपराध-बोध के इसका आनंद ले सकें, शायद इसीलिए ऐसे कार्यक्रम रचे जाते हैं.

ajit gupta said...

भारत में प्रेम और सहिष्‍णुता का भाव प्रमुख हैं। हम परिवार में सभी को इन भावों को सिखाने का प्रयास करते हैं। लेकिन वर्तमान में यह प्रयास किया जा रहा है कि घृणा, आक्रोश, जंगलीपन और असभ्‍यता का कैसे विस्‍तार हो? चूंकि नवीन पीढ़ी भारतीयता से विमुख होना चाहती है इसलिए वे सब इन्‍हीं नवीन भावों को सीखने का प्रयास कर रही है।

महेन्द्र मिश्र said...

बहुत ही विचारणीय मुद्दा है .... इससे हमारी युवा पीढी पर मानसिक,शारीरिक, और गंदें संस्कारों का प्रभाव पड़ रहा है ... आभार

arvind said...

vicharneey mudda...filhal tv programm to yahi msg de rahi hai ki kaise bhi trp badhaao our khoob kamaao.

प्रवीण पाण्डेय said...

बिग बॉस नहीं, बिग लॉस कहें।

शिवम् मिश्रा said...


बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

शिवम् मिश्रा said...


बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें