Wednesday, January 26, 2011

गणतन्त्र दिवस पर किसलिए खुश हैं आप?

आज आप परस्पर गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाओं का आदान प्रदान कर रहे हैं क्योंकि बड़े खुश हैं आप!

पर किसलिए खुश हैं आप?

श्रीनगर के लाल चौक में तिरंगा नहीं फहराया जा सकता इसलिए?

विदेशी बैंकों में काला धन जमा करने वालों की लिस्ट मिल गई है पर उनका सार्वजनिक नहीं किया जाएगा इसलिए?

आतंक का राक्षस न जाने कब, किसे और कहाँ निगल ले इसलिए?

अफजल को फाँसी की सजा मिलने के बाद भी फाँसी नहीं लगी इसलिए?

कसाब कारागार में फाइव स्टार होटल वाली सुविधा पा रहा है इसलिए?

चार-छः महीनों के भीतर पेट्रोल के दाम तीन बार बढ़ाए गए इसलिए?

आपका बच्चा भोजन में दाल खाने को तरस रहा है और आपका नेता रु.1.50 में कटोरी भर के दाल खा रहा है इसलिए?

दाल, सब्जी आदि जीवन निर्वाह के लिए आवश्यक वस्तुओं के दाम बढ़ गए हैं इसलिए?

मँहगाई आसमान छू रही है इसलिए?

प्याज, जो कि दैनिक जीवन का अंग सा बन गया था, अब सपना बन गया है इसलिए?

अपने बच्चों के गणवेश, पुस्तकें आदि स्कूल से ही या स्कूल द्वारा निर्धारित किसी निश्चित दुकान से चार पाँच गुना दाम देकर खरीदना पड़ रहा है इसलिए?

किसलिए खुश हैं आप?

सिर्फ इसलिए खुश हैं न कि भारत में गणतन्त्र है और आज गणतन्त्र दिवस मनाया जा रहा है!

पर कैसा गणतन्त्र है ये?

जनता द्वारा, जनता के लिए, जनता का शासन वाला गणतन्त्र या नेता, अधिकारी और व्यापारी द्वारा, अधिकारी और व्यापारी के लिए, अधिकारी और व्यापारी का शासन वाला गणतन्त्र?

जरा सोचिए इन प्रश्नों के उत्तर और दीजिए जवाब।

किसलिए खुश हैं आप?
Post a Comment