Friday, June 20, 2008

हिममानव - वास्तविकता या कपोल कल्पना?

ब्रिटेन के डर्बीशायर इलाके की एक महिला ने यती का एक चित्र जारी किया है। यह चित्र उसने कथित तौर पर हिमालयवासियों के आँखों देखे विवरण के आधार पर बनाया है। यती यानी हिम मानव एक ऐसा जीव है जिसके बारे में ढेरों किंवदंतियाँ हैं और अब तक इसकी कोई तस्वीर नहीं है। वैज्ञानिक इस विवरण को दिलचस्पी के साथ देख रहे हैं जिसे इस महिला ने जारी किया है।

वेबदुनिया में इस समाचार को पढ़ कर विचार आया कि वास्तव में हिम मानव होते हैं या ये केवल कपोल कल्पना है? बचपन से ही रहस्यमय हिममानव के विषय में सुनते और पढ़ते आया हूँ। दिसम्बर 2007 में टीवी पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रम “.डेस्टीनेशन ट्रुथ” में दावा किया गया था कि उन्होंने मंजू नदी के किनारे 2,850 मीटर की उंचाई पर येती के पदचिन्ह खोज निकाला है। उनका कहना था कि उन्हें येती (हिममानव) के तीन पद चिह्न मिले हैं।

येति नाम से जाने जाने वाले हिममानव को देखने का दावा सैकड़ों लोग करते हैं। दावा करने वालों के अनुसार हिममानव नौ फीट लंबा, भारी-भरकम (200 किलो के करीब वजन वाला) तथा घने बालों से युक्त प्राणी होता है जो मनुष्य की तरह दो पैरों पर चलता भी है। शेरपा के दो शब्दों "येह" और "तेह" से मिलकर "येति" शब्द बना है। येह का अर्थ है "चट्टान" और तेह का "जंतु", अर्थात् "येति" का अर्थ हुआ "चट्टान का जंतु"।

सन् 1832 में हिममानव के बारे में पहली बार विवरण मिलने के बाद से अब तक इस विषय में सैकड़ों कथा-कहानियाँ प्रचलन में आ चुकी हैं, कई रोचक फिल्में बन चुकी हैं और अनेकों पुस्तकें लिखी जा चुकी हैं। किन्तु आज तक सही प्रकार से पता नहीं चल पाया है कि हिममानव वास्तविकता है या कपोल कल्पना?
Post a Comment