Monday, March 8, 2010

तरबूज तो मीठे ही होते हैं ... यदि नहीं होते तो सैक्रीन का इंजेक्शन लगाकर उन्हें मीठा बना दिया जाता है

वाह बन्धु! आप जानकारी दे रहे हैं महानदी के तरबूजों के बारे में कि वे बहुत मीठे होते हैं। अरे भाई! तरबूज चाहे महानदी के हों या और किसी नदी के, वे तो मीठे ही होते हैं, यदि नहीं भी होते तो सैक्रीन का इंजेक्शन लगाकर उन्हें मीठा बना दिया जाता है।

किन्तु बन्धु! आज हमें बहुत अधिक निराशा हुई है आपके पोस्ट को पढ़कर। आप हमारे छोटे भाई हैं और हमें आप पर गर्व भी बहुत है क्योंकि आपने आज तक बहुत सारी अच्छी-अच्छी प्रविष्टियाँ लिखी हैं। पर आज हमें लग रहा है कि हमारा गर्व चूर-चूर हो गया है। हिन्दी तथा संस्कृत सहित और भी बहुत सी भाषाओं पर अधिकार एवं ज्ञान का विशद भण्डार रखने वाले अपने छोटे भाई से हमें इतनी तुच्छ जानकारी वाले पोस्ट की किंचित मात्र भी अपेक्षा नहीं थी।

भला ये भी कोई जानकारी हुई कि महानदी के किनारे तरबूज की खेती हो रही है। अरे भाई तरबूज की खेती तो प्रायः देश भर की नदियों के रेत में होती है। महानदी के विषय में बताना ही था तो यह बताया होता कि इस पवित्र सरिता को छत्तीसगढ़ में पुण्य सलिला गंगा की भाँति ही कलुषहारिणी माना जाता है। आप यह जानकारी दे सकते थे कि जिस प्रकार से प्रयाग में पुण्य-सलिला गंगा के साथ यमुना और सरस्वती का त्रिवेणी संगम होता है उसी प्रकार छत्तीसगढ़ के राजिम में पवित्र महानदी के साथ पैरी और सोढ़ुर नदियों का त्रिवेणी संगम होता है। आप अच्छी तरह से जानते हैं कि महानदी का प्राचीन नाम चित्रोत्पला है, प्राचीनकाल में इसे महानन्दा एवं नीलोत्पला के नाम से भी जाता था। आपने ही हमें बताया था कि महानदी का उल्लेख मत्स्य पुराण, ब्रह्मपुराण तथा महाभारत जैसे प्राचीन ग्रंथो में भी पाया जाता है। तो क्या आपने अपने पोस्ट में इतनी अच्छी जानकारी देना उचित नहीं समझा?

आप बता सकते थे कि महानदी छत्तीसगढ़ तथा उड़ीसा अंचल की सर्वाधिक लंबी नदी है। इसका उद्गम छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में स्थित सिहावा नामक पर्वत श्रेणी से हुआ है। महानदी का प्रवाह दक्षिण दिशा से उत्तर दिशा की ओर है। सिहावा से निकलकर महानदी बंगाल की खाड़ी तक निरन्तर लगभग 855 कि.मी. प्रवाहित होती है और अन्ततः बंगाल की खाड़ी में विलीन हो जाती है। महानदी के तट पर धमतरी, कांकेर, चारामा, राजिम, चम्पारण, आरंग, सिरपुर, शिवरी नारायण आदि छत्तीसगढ़ में प्रमुख स्थान हैं और सम्बलपुर, कटक आदि उड़ीसा के। पैरी, सोंढुर, शिवनाथ, हसदेव, अरपा, जोंक, तेल आदि महानदी की प्रमुख सहायक नदियाँ हैं। कटक नगर से लगभग सात मील पहले महानदी का डेल्टा शुरू हो जाता है जहाँ से यह अनेक धाराओं में विभक्त हो जाती है। रुद्री, गंगरेल और हीराकुंड महानदी पर बने प्रमुख बाँध हैं।

उपरोक्त सभी बातें जानते हुए भी आपने अपने पोस्ट में नहीं बताया इससे हमें बहुत ही दुःख हुआ है।

हम आप पर अपना अधिकार समझते हैं इसलिये ये सब कह दिया हमने; और हमें विश्वास है कि भविष्य में आप अच्छे पोस्ट लिख कर हमारे गर्व को बनाये रखेंगे।
Post a Comment