Friday, June 3, 2011

खान अकादमी (Khan Academy) - ई-लर्निंग के लिए एक मुफ्त प्लेटफॉर्म

इंटरनेट की असंख्य सुविधाओं में से एक महत्वपूर्ण सुविधा है ई-लर्निंग। याने कि अब कुछ सीखने के लिए आपको पाठशाला की चारदीवारी से घिरी कक्षा में, जहाँ पर कोई शिक्षक ब्लैकबोर्ड पर चाक से लिखकर सिखाया करता है, कैद होने की आवश्यकता नहीं रह गई है। अब आप अपने घर में ही अपने इंटरनेट से कनेक्टेड कम्प्यूटर के समक्ष बैठ कर कोई ई-लर्निंग साइट खोलकर कुछ भी सीख सकते हैं। खान अकादमी भी एक ई-लर्निंग साइट है जहाँ पर कि सीखने के लिए अनेक विषयों के मुफ्त व्हीडियो पाठ उपलब्ध हैं। ई लर्निंग के इस मुफ्त प्लेटफॉर्म में गणित जैसे शुष्क विषय को सीखने के लिए इतने रोचक प्रकार के व्हीडियो पाठ हैं कि कोई भी व्यक्ति बड़े ही आसानी के साथ गणित सीख सकता है।

खान अकादमी के लाइब्रेरी में साधारण अंकगणित, बीजगणित, रेखागणित से लेकर गणित त्रिकोणमिति, केलकुलस आदि तक के रोचक पाठ उपलब्ध हैं। इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र, भौतिक शास्त्र, रसायन शास्त्र, गणित.... सभी विषय सम्मिलित हैं खान अकादमी में। वास्तव में यह अकादमी विश्व स्तर का ई-लर्निंग सेन्टर हैं जहाँ पर कोई भी व्यक्ति बिल्कुल मुफ्त में कुछ भी सीख सकता है।

खान अकादमी के स्थापना की कहानी बड़ी रोचक है। इसके संस्थापक समलमान खान नामक व्यक्ति हैं। हुआ यह कि एक बार सन् 2004 में सलमान खान की नाडिया नामक भतीजी को गणित विषय में कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ा। अतः उसने सलमान खान से गणित समझाने के लिए कहा। चूँकि सलमान खान और नाडिया अलग-अलग स्थानों में निवास करते थे, सलमान खान ने गणित समझाने के लिए याहू मेसेन्जर तथा नोटपैड का सहारा लिया। इसके बाद खान के अन्य रिश्तेदारों से भी कुछ विषयों को समझाने के लिए अनुरोध आने लग गए। खान को लगा कि उनके इस प्रकार से विषयों को समझाने का लाभ अन्य लोगों को भी मिल सकता है। अतः उन्होंने अलग-अलग विषयों के विभिन्न व्हीडियो पाठ बना कर यू ट्यूब में डालना आरम्भ कर दिया। कुछ ही समय में लोगों ने उनके पाठों को यू ट्यूब में ढूँढ निकाला और वे पाठ आश्वर्यजनक रूप से लोकप्रिय होने लगे। दिसम्बर 2009 तक तो यू ट्यूब में प्रतिदिन उनके लगभग35,000 व्हीडियो पाठ देखे जाने लगे।

आज खान अकादमी में विभिन्न विषयों के  2,300 से भी अधिक व्हीडियो पाठ उपलब्ध हैं।
Post a Comment