Friday, January 23, 2015

"आजाद हिन्द फौज (The Indian National Army) का Provisional Government" : नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की अमर गाथा

21 अक्टूबर 1943 का दिन इतिहास का एक सर्वाधिक महत्वपूर्ण एवं गौरवशाली दिन है!

इसी दिन नेताजी सुभाष चन्द्र बोस (Subhash Chandra Bose) ने "आजाद हिन्द तत्कालिक (provisional) सरकार" बनाने का ऐलान किया था। नेताजी सुभाषचन्द्र बोस (Subhash Chandra Bose) के द्वारा की गई "आजाद हिन्द फौज (The Indian National Army) का Provisional Government" के निर्माण की इस घोषणा ने स्वातंत्र्य वीरों को जोश और उत्साह से भर दिया था। इस घोषणा में प्रत्येक भारतीय, चाहे वह किसी भी जाति का हो या किसी भी संप्रदाय को मानने वाला हो, को समान मान्यता और समान मान्यता देने का दावा नेताजी ने किया था। अपने भाषण के अन्त में उन्होंने भावोत्तेज अपील किया था कि -

"In the name of God, in the name of bygone generations who have welded the Indian people into one nation and in the name of the dead heroes who have bequeathed to us a tradition of heroism and self-sacrifice - we call upon the Indian people to rally round our banner and strike for India's Freedom. We call upon them to launch the final struggle against the British and all their allies in Indian and to prosecute that struggle with valour and perseverance and with full faith in Final Victory - until the enemy is expelled from
Indian soil and the Indian people are once again a Free Nation."

भावार्थ - भगवान के नाम पर, बीते पीढ़ियों के नाम पर, जिन्होंने हमें एक राष्ट्र के रूप जोड़ रखा है और उन अमर वीरों के नाम पर जिन्होंनें हमें वीरता एवं आत्म बलिदान की एक परंपरा विरासत दिया है - भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति के उद्देश्य से रैलियाँ निकालने, बैनर लगाने तथा हड़तालें करने के लिए निमन्त्रित करते हैं। हम उन्हें ब्रिटिश एवं उनके समस्त सहयोगियों के विरुद्ध वीरतापूर्वक और दृढ़तापूर्वक एवं अन्तिम विजय हेतु दृढ़ विश्वास रखते हुए निर्णायक संघर्ष आरम्भ करने के लिए आह्वान करते हैं - तब तक संघर्ष जारी रहना चाहिए जब तक कि दुश्मन भारत भूमि से खदेड़ ना दिये जाएँ और समस्त भारतीय पुनः एक स्वतन्त्र राष्ट्र के अंग न बन जाएँ।

"आजाद हिन्द फौज (The Indian National Army) का Provisional Government"  में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस (Subhash Chandra Bose) स्वयं देश के मुखिया, प्रधान मन्त्री तथा युद्ध मन्त्री थे तथा आजाद हिन्द फौज के अन्य अधिकारी केबिनेट मेम्बर थे।

"आजाद हिन्द तत्कालिक (provisional) सरकार" के केबिनेट मेम्बर्स का विवरण इस प्रकार है -

लेफ्टिनेंट ए.सी. चटर्जी - वित्त मन्त्री (Minister of Finance)
डॉ.(कैप्टन) लक्ष्मी सहगल - Minister of Women’s Organisation
श्री ए.एम सहाय - Secretary with Ministerial Rank
श्री एस.एं अय्यर - Minister of Publicity and Propaganda
ले. कर्नल जे.के. भोंसले - Representative of INA
ले. कर्नल लोगानाथन - Representative of INA
ले. कर्नल एहसान कादिर - Representative of INA
ले. कर्नल एन.एस. भगत - Representative of INA
ले. कर्नल एम.जेड. कियानी - Representative of INA
ले. कर्नल अज़ीज़ अहमद -Representative of INA
ले. कर्नल शाह नवाज़ खान - Representative of INA
ले. कर्नल गुलजारा सिंह - Representative of INA
रास बिहारी बोस - Supreme Advisor
करीम गियानी - Advisor from Burma
देबनाथ दास - Advisor from Thailand
सरदार ईशर सिंह - Advisor from Thailand
डी.एम. खान - Advisor from Hong Kong
ए. येल्लप्पा - Advisor from Singapore
ए.एन सरकार - Advisor from Singapore
 (सन्दर्भः http://www.s1942.org.sg/s1942/indian_national_army/provi.htm)

"आजाद हिन्द तत्कालिक (provisional) सरकार" ने न केवल नेताजी को जापानियों के साथ बराबरी के साथ समझौता करने में सक्षम बनाया बल्कि पूर्व एशिया में रहने वाले भारतीयों को एक सूत्र में बाँधकर आजाद हिन्द फौज में भर्ती होने के लिए प्रोत्साहित किया। सुभाष चन्द्र बोस जी के इस तत्कालिक सरकार को अनेक देशों ने मान्यता भी प्रदान की।

"आजाद हिन्द तत्कालिक (provisional) सरकार" के निर्माण के साथ ही नेताजी ने भारतीयों को एकसूत्र में बँध कर आजाद हिन्द फौज के तत्वावधान में ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध सशस्त्र युद्ध का शंखनाद भी कर दिया। मलाया, थाइलैंड तथा बर्मा में बसे भारतीयों ने नेताजी के युद्ध के प्रस्ताव का उत्साहपूर्वक स्वागत किया और बड़ी संख्या में भारतीय आजाद हिन्द फौज में भर्ती होने लगे। अनेक भारतीयों ने आजाद हिन्द फौज को सोना, चाँदी, गहने, कपड़े आदि की सहायता प्रदान की, महिलाओं ने अपने जेवरात तक उतार कर आजाद हिन्द फौज को समर्पित कर दिए।

भारतीयों से प्राप्त उसी धन से अप्रैल 1944 तक रंगून में आजाद हिन्द बैंक की स्थापना भी हो गई।



Post a Comment