Saturday, May 17, 2008

हिन्दी ब्लोग्स से कमाई का एक और उपाय

हिन्दी ब्लोग्स में एडसेंस विज्ञापनों को क्या हुआ?

पिछले एक-दो दिनों से मैं देख रहा हूँ कि हिन्दी ब्लोग्स में गूगल के सिर्फ सार्वजनिक सेवा विज्ञापन ही प्रकाशित हो रहे हैं। तो क्या अब गूगल ने हिन्दी ब्लोग्स में सिर्फ अपने सार्वजनिक सेवा विज्ञापन ही दिखाने की ठान ली है? एक तो हिन्दी ब्लोग्स के एडसेंस विज्ञापनों पर क्लिक करने वालों की संख्या ही नगण्य है। ले दे कर यदि कभी-कभार कुछ सेंट की कमाई हो भी जाती थी तो सार्वजनिक सेवा विज्ञापनों से वह भी बंद हो जायेगा।

या फिर गूगल चुपचाप अपने तकनीक में कोई बड़ा परिवर्तन कर रहा है ताकि हिन्दी ब्लोग्स में हिन्दी शब्दों अंग्रेजी अनुवाद वाले शब्दों के अनुरूप विज्ञापन प्रकाशित हो सकें। चूँकि गूगल का स्वभाव हमेशा लोगों को विस्मित कर (surprise) देने का रहा है, यही लग रहा है कि अवश्य ही गूगल अपने तकनीक में कोई बड़ा परिवर्तन कर रहा है।

हिन्दी ब्लोग्स से कमाई का एक और उपाय

हिन्दी ब्लोग्स से कमाई का एक और उपाय है अपने ब्लोग में एफिलियेट विज्ञापन प्रदर्शित करना। लोग आपके एफिलियेट विज्ञापन को क्लिक कर के विज्ञापनदाता से यदि उनके उत्पाद या सेवाएँ खरीदते हैं तो कमीशन के रूप में आपकी भी कमाई होती है। वैसे तो अमेजान, क्लिक बैंक, पेडॉटकाम को सबसे अच्छा एफिलियेट प्रोग्राम्स माना जाता है क्योंकि इनमें कमाई अधिक होती है। किन्तु ये सभी प्रोग्राम्स हिन्दी ब्लोग्स के लिये उपयुक्त नहीं है क्योंकि इन प्रोग्राम्स में भारतीय उत्पादों और सेवाओं का स्थान नहीं के बराबर है। हाँ, शादी.कॉम, मैत्री.कॉम जैसे मैट्रिमोनियल एफिलियेट्स प्रोग्राम्स से कुछ कमाई होने की उम्मीद की जा सकती है।

मैनें dgmpro.com के एफिलियेट प्रोग्राम्स को हिन्दी ब्लोग्स/वेबसाइट्स के लिये अधिक उपयुक्त पाया है क्योंकि वहाँ पर भारत देश के लिये एक अलग ही विभाग है जिसके अंतर्गत एयर बुकिंग, होटल बुकिंग, इन्डियन शॉपिंग आदि एफिलियेट्स प्रोग्राम्स हैं जो भारतीय पाठकों को अधिक आकर्षित करते है। यात्रा, मेकमाइट्रिप, एयरटेल, रेडिफ, सिफी आदि एफिलेट कार्यक्रम, जो भारतीयों में अधिक लोकप्रिय है, dgmpro के अंतर्गत आते है।

पिछले कुछ समय से मैं अपने हिन्दी ट्युटोरियल वेबसाइट में उपरोक्त इन एफिलियेट विज्ञापनों को प्रदर्शित कर रहा हूं और उनसे अधिक नहीं पर कुछ तो कमाई हो रही है।

आप भी यदि चाहे तो अपने ब्लोग्स में उपरोक्त एफिलियेट विज्ञापनों को प्रदर्शित करके कुछ लाभ उठा सकते है।

4 comments:

Mrs. Asha Joglekar said...

बहुत जरूरी और अच्छी जानकारी ।

Suresh Chandra Gupta said...

पता नहीं क्या कारण है? मेरे हिन्दी चिट्ठों से गूगल विज्ञापन गायब हो गए थे. काफ़ी प्रयत्न के बाद में गूगल एडसेंस से सम्पर्क बना पाया तो पता चला उन्होंने मेरा एकाउंट सस्पेंड कर दिया है. कारण लाख पूछने पर भी नहीं बताया. अब तक मेरे एकाउंट में लगभग ७० डालर हो चुके थे. मुझे लगता गूगल एडसेंस एक धोखा है.

mahashakti said...

अच्‍छी जानकारी दिया है।

Udan Tashtari said...

हमने तो अब तक विज्ञापन लगाया ही नहीं है, तो नो फिकर!!