Monday, October 19, 2009

मेरा मस्तिष्क और हृदय मेरा मन्दिर है ...

"न ही मन्दिरों की कोई आवश्यकता है और न ही क्लिष्ट दर्शन की। मेरा मस्तिष्क और हृदय मेरा मन्दिर है और दया मेरा दर्शन है।"

दलाई लामा
Post a Comment