Sunday, April 25, 2010

क्या आप जानना चाहते हैं कि आप कौन हैं? तो किसी से पूछिये मत ...

क्या आप जानना चाहते हैं कि आप कौन हैं? तो किसी से पूछिये मत। कार्य करना शुरू कर दें। आपका कार्य आपको परिभाषित एवं चित्रित कर देगा। - थॉमस जेफर्सन

Do you want to know who you are? Don't ask. Act! Action will delineate and define you. - Thomas Jefferson

मैं यह नहीं कहूँगा कि मैं 1000 बार असफल हुआ, मैं यह कहूँगा कि ऐसे  1000 रास्ते हैं जो आपको असफलता तक पहुँचाते हैं। - थॉमस एडिसन

I will not say I failed 1000 times, I will say that I discovered threre are 1000 ways that can cause failure. - Thomas Edision

हर कोई इस संसार को बदल डालने के विषय में सोचता है किन्तु स्वयं को बदल डालने के विषय में कोई भी नहीं सोचता। - लियो टॉल्स्टाय

Everyone thinks of changing th world but no one thinks of changing himself. - Leo Tolsty

हर किसी पर विश्वास कर लेना खतरनाक है; किसी पर भी विश्वास न करना बहुत खतरनाक है। - अब्राहम लिंकन

Believing everybody is dangerous; believing nobody is very dangerous. - Abraham Lincoln

यदि कोई समझता है कि उसने जीवन में कभी कोई गलती नहीं की है तो इसका मतलब है कि उसने जीवन में कभी भी कुछ नया करने का प्रयास ही नहीं किया। - आइन्स्टीन

If someone feels that they had never mad a mistake in their life, then it means they had never tried a new thing in their life. - Einstein

11 comments:

ललित शर्मा said...

सत्य वचन है गुरुदेव
विचारणीय पोस्ट है,चिंतन की आवश्यक्ता है।

ललित शर्मा said...

जीवन के दिन चार,पंछी उड़ जाना

प्यार बांटते चलो,स्नेह बांटते चलो।

Hindiblog Jagat said...

ब्लौगर बंधु, हिंदी में हजारों ब्लौग बन चुके हैं और एग्रीगेटरों द्वारा रोज़ सैकड़ों पोस्टें दिखाई जा रही हैं. लेकिन इनमें से कितनी पोस्टें वाकई पढने लायक हैं?
हिंदीब्लौगजगत हिंदी के अच्छे ब्लौगों की उत्तम प्रविष्टियों को एक स्थान पर बिना किसी पसंद-नापसंद के संकलित करने का एक मानवीय प्रयास है.
हिंदीब्लौगजगत में किसी ब्लौग को शामिल करने का एकमात्र आधार उसका सुरूचिपूर्ण और पठनीय होना है.
कृपया हिंदीब्लौगजगत देखिए

tat said...
This comment has been removed by the author.
शिवम् मिश्रा said...

बढ़िया !

राजकुमार सोनी said...

अवधिया जी,
आपने महान लोगों की बातों को कोड कर एक बेहतर काम किया है। आपको बधाई। मैं आज भी आपसे मिलने नहीं आ पाया हूं। नेट बार-बार परेशान कर रहा है। कभी ठीक रहता है कभी बिगड़ जाता है। सुधार कार्य जारी है।

राज भाटिय़ा said...

क्या बात है जी, बहुत सुंदर जी. धन्यवाद

श्याम कोरी 'उदय' said...

...अदभुत अभिव्यक्ति/प्रस्तुति !!!

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

वाह्! बेहद विचारणीय पोस्ट्!!!
सुन्दर....

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत उपयोगी और सुंदर आलेख.

रामराम.

sangeeta swarup said...

अनमोल वचन ....अच्छी पोस्ट के लिए आभार