Friday, April 18, 2008

ब्लोग क्या होता है

प्रसन्नता की बात है कि हिन्दी में ब्लोग्स की संख्या दिनों दिन बढ़ रही है। नये नये ब्लोगर्स आते जा रहे हैं। तो हम सभी ब्लोगर्स के लिये यह जान लेना अधिक अच्छा होगा कि ब्लोग क्या होता है।

ब्लोग (blog) शब्द की उत्पत्ति web और log शब्दों के मेल से हुई है। ब्लोग की परिभाषा अनेक विद्वानों ने अनेक प्रकार से दिया है जिनमें से कुछ उदाहरण के रूप में नीचे दर्शाया जा रहा है।

व्यक्तिगत विचारों तथा वेब लिंक्स का कालक्रम के अनुसार कुछ-कुछ अन्तराल में प्रकाशन को ब्लोग कहा जाता है।

‘A frequent, chronological publication of personal thoughts and Web links.’ (स्रोत)

वेबलॉग (ब्लोग) टैक्स्ट, इमेजेस, मीडिया आब्जेक्ट्स तथा डाटा का कालक्रम के अनुसार व्यवस्थित तारतम्य होता है जिसे कि HTML ब्राउसर में देखा जा सकता है

‘A weblog is a hierarchy of text, images, media objects and data, arranged chronologically, that can be viewed in an HTML browser.’ (स्रोत)

Web और log से बना ब्लोग मूलतः वेब में उपलब्ध एक जर्नल होता है। ब्लोग के नवीनीकरण (updating) करने को ब्लोगिंग कहा जाता है और ब्लोग रखने वाले को ब्लोगर कहा जाता है।

‘From “Web log.” A blog is basically a journal that is available on the web. The activity of updating a blog is “blogging” and someone who keeps a blog is a “blogger.”‘ (स्रोत)

गूगल के ब्लोगर.कॉम के अनुसारः
ब्लॉग एक व्यक्तिगत डायरी है. एक दैनिक प्रवचन मंच. एक सहयोगपूर्ण स्थान. एक राजनैतिक सोपबॉक्स. एक ताज़ा समाचार आउटलेट. लिंकों का एक संग्रह. आपके अपने निजी विचार. दुनिया को दिए जाने वाली ज्ञापन.

आपका ब्लॉग वैसा ही है जैसा आप उसे चाहते हैं. ऐसे लाखों हैं, सभी आकृति और आकारों में, और वास्तव में कोई खास नियम नहीं हैं.

सामान्य शब्दों में, ब्लॉग एक वेब साइट है, जहाँ आप नियमित तौर पर सामग्री लिखते हैं. नई सामग्री सबसे ऊपर दिखती है, ताकि आपके विजिटर पढ़ सकें कि नया क्या है. इसके बाद वे उस पर टिप्पणी कर सकते हैं या उसे लिंक कर सकते हैं या आपको ईमेल कर सकते हैं. या नहीं.(स्रोत)

ब्लोग की ऐसी ही सर्वमान्य और भी अनेक परिभाषाएँ हैं। इन परिभाषाओं को पढ़ कर लोग प्रायः ब्लोग के समझने के स्थान पर भ्रमित अधिक होते हैं।

तो आखिर ब्लोग है क्या???

भ्रमित होने की कोई आवश्यकता नहीं है। सरल शब्दों में कहा जाये तो ब्लोग कालक्रम के अनुसार व्यवस्थित एक प्रकार का वेबसाइट होता है जिसमें कि प्रायः अंतिम पोस्ट सबसे ऊपर और पुराने पोस्ट्स क्रमानुसार नीचे होते हैं।

ब्लोग में क्या लिखा जाता है???

प्रायः ब्लोग में ब्लोगर अपने विचारों को वेब में प्रचलित अन्य बातों के साथ लिखता है। किन्तु यह कोई नियम नहीं है। आप ब्लोग में कुछ भी लिख सकते हैं - राजनीति के विषय में लिख सकते हैं, साहित्य के विषय में लिख सकते हैं, विज्ञान के विषय में लिख सकते हैं, कहानी लिख सकते हैं, कविता लिख सकते हैं, मन की भड़ास निकाल सकते हैं, यानी कि कुछ भी लिख सकते हैं। ठीक वैसे ही जैसे कि आप अपनी दैनन्दिनी (diary) में लिखते हैं। वास्तव में ब्लोग किसी एक व्यक्‍ति (या एक से अधिक भी) के द्वारा लिखी गई दैनन्दिनी ही हैं।

टिप्पणी (comments)

अधिकतर ब्लोग्स में टिप्पणी करने के लिये स्थान होता है। टिप्पणी का स्थान देना जरूरी नही है किन्तु मेरे विचार से टिप्पणी का स्थान देना ही चाहिये। क्योंकि यदि आप अपने विचारों का दूसरों के समक्ष प्रदर्शन कर रहे है तो आपको सामने वाले के विचारों को भी जानना ही चाहिये। टिप्पणी तो विचारों के आदान-प्रदान का एक बहुत अच्छा माध्यम है।
Post a Comment