Monday, January 10, 2011

शाहजहां ने सन् 1628 में फारसी राजदूत का स्वागत उस भवन में कैसे किया जिसका अस्तित्व ही नहीं था?


उपरोक्त चित्र दिल्ली के लालकिले में लगे शिलापट्ट का है जिसके अनुसार आधुनिक पुरातत्ववेत्ता इस बात का ढिंढोरा पीटते हैं कि दिल्ली के लाल किले को शाहजहां (जिसने 1628 से 1658 ई. तक शासन किया था) ने सन् 1639 से 1648 के दौरान बनवाया था।

उपरोक्त चित्र बोडलियन पुस्तकालय, ऑक्सफोर्ड (Bodleian Library, Oxford) में सुरक्षित समकालीन पेंटिंग का है जिसके अनुसार शाहजहां ने सन् 1628 में लाल किले के दीवान-ए-आम में फ़ारसी राजदूत का स्वागत् किया था। यह चित्र इल्युस्ट्रेटेड वीकली ऑफ इण्डिया के 14 मार्च 1971 के अंक (पृष्ठ 32) में भी प्रकाशित हुआ था।

शाहजहां ने सन् 1628 में फारसी राजदूत का स्वागत उस भवन में कैसे किया आधुनिक पुरातत्वविदों के अनुसार जिसका अस्तित्व ही नहीं था? आधुनिक पुरातत्वविदों के अनुसार तो लाल किले का निर्माण सन् 1639 से 1648 के दौरान हुआ है।

(चित्रों को बड़ा करके देखने के लिए उन पर क्लिक करें, चित्र http://www.stephen-knapp.com से साभार)
Post a Comment