Tuesday, January 5, 2010

मुझे वही पोस्ट अधिक पसंद आता है जो कि आम पाठकों के लिये लिखी गई हो

रोज ही मैं हिन्दी ब्लोगों के अधिकतर पोस्टों को पढ़ता हूँ किन्तु मुझे वही पोस्ट अधिक पसंद आता है जो कि आम पाठकों के लिये लिखी गई हो। आम पाठकों के लिये लिखी गई पोस्ट से मेरा मतलब है जिसे पढ़ने से किसी की कुछ जानकारी मिले, उसे कोई सार्थक सन्देश मिले या फिर उसका स्वस्थ मनोरंजन हो। मिसाल के तौर पर ललित शर्मा जी की पोस्ट दीवारें भी चमकेंगी नई रौशनी से! "एक नया अविष्कार" बेहद पसंद आई। इस पोस्ट से एक नई जानकारी मिलती है। हो सकता है कि कुछ लोग इसमें बताई गई बात को पहले से ही जानते हों किन्तु मैं समझता हूँ कि अधिकतर लोगों के लिये यह बिल्कुल ही नई जानकारी है। इसी प्रकार से महफ़ूज अली के पोस्ट "जानना नहीं चाहेंगे आप संस्कार शब्द का गूढ़ रहस्य..." भी एक अच्छी जानकारी देने वाला पोस्ट है। ऐसे और भी उदाहरण अवश्य हैं किन्तु वे अपेक्षाकृत कम हैं। मैं तो समझता हूँ कि अच्छी जानकारी वाले पोस्ट हर किसी को पसंद आयेंगे ही।

प्रत्येक व्यक्ति की अपनी कुछ न कुछ विशेष रुचि होती ही है और अपनी रुचि वाले विषय में वह इतना अधिक खोज-बीन करता है कि उसके पास अच्छी जानकारियों का भण्डार हो जाता है। आप भी किसी न किसी क्षेत्र में अवश्य ही महारत रखते होंगे तो फिर क्यों न उस क्षेत्र की अच्छी जानकारी दूसरों को उपलब्ध करवायें?

इसी प्रकार से आप अपने खट्टे-मीठे अनुभव भी लोगों को बाँट सकते हैं। यदि आप अपने पोस्ट में बताते हैं कि क्यों और कैसे आप किसी विपत्ति में फँस गये थे और उससे कैसे छुटकारा मिला तो वह भी पाठक के लिये एक जानकारी ही होती है और आपका पाठक आपके अनुभव से लाभ उठा सकता है। याने कि आपके खट्टे-मीठे अनुभव भी अच्छी जानकारी है पाठकों के लिये। इसी प्रकार से आपके संस्मरण भी लोगों को ज्ञान बाँटने तथा मनोरंजन देने के साधन हो सकते हैं। तो जब भी कुछ लिखें तो ऐसा लिखें जिससे कि लोगों को एक सार्थक सन्देश प्राप्त हो।

यदि आप अपने ब्लोग में अच्छी जानकारी से युक्त पोस्ट देंगे तो न केवल हिन्दी की सेवा होगी बल्कि हिन्दी ब्लोग की पाठक संख्या भी दिन दूनी रात चौगुनी बढ़ेगी।
Post a Comment