Sunday, February 28, 2010

एक तो इतवार ऊपर से होली ... आज तो बस टिपियाओ पोस्ट पढ़ने को मारो गोली

वैसे ही सप्ताहान्त अर्थात् शनिवार और इतवार को लोग ब्लोग्स में कम ही जाते हैं। फिर आज तो इतवार के साथ ही साथ होलिकादहन भी है। याने कि करेला वो भी नीमचढ़ा! आज के दिन भला पोस्ट कौन पढ़ता है? आज तो बस टिपिया टिपया कर शुभकामनाएँ देने का दिन है।

भाई, सप्ताह में केवल एक बार ही तो इतवार आता है। ज्यूडिश/ ईसाई बाइबल में कहा गया है कि ईश्वर ने पहले ब्रह्मांड का निर्माण करने में छः दिन खर्च करने के बाद सातवें दिन अर्थात् रविवार को विश्राम किया था। जब ईश्वर ने इस दिन विश्राम किया था तो हम क्यों नहीं करेंगे? हम तो ये सोचते हैं कि काश! सप्ताह में तीन-चार इतवार आते! कितना मजा आता अगर ऐसा होता तो!

पर ये ब्लोग है कि आराम करने ही नहीं देता। थोड़ा आराम करने के लेटे नहीं कि दिमाग में घूमने लगता है कि क्या पोस्ट लिखें? क्या टिपियायें? और तत्काल उठकर कम्प्यूटर के सामने बैठ जाते हैं।

सोचता हूँ कि ब्लोगिंग का नशा तो पहले से ही है और ऊपर से होली मनाने के लिये दोस्तों के साथ दो-तीन पैग अलग चढ़ा लिया है। याने कि फिर से एक बार नीमचढ़ा करेला। ऐसे में क्या खाक पोस्ट लिखा जा सकता है। दिमाग सोचता कुछ है और उँगलियाँ कुछ और टाइप करने लगती हैं। इसलिये आज इतना ही लिखकर पोस्ट खत्म कर देता हूँ और जा रहा हूँ होली के हुड़दंग में।

आप तथा सभी ब्लॉगर मित्रों को होली की शुभकामनाएँ!

चलते-चलते

बाइबिल के ईश्वर ने तो विश्राम कर भी लिया पर हमारे ब्रह्मा जी हैं कि बिना आराम किये लगातार काम करते रहते हैं। आखिर वे लगातार काम नहीं करेंगे तो फिर सृष्टि में जीवों का जन्म होना जो रुक जायेगा। लाखों वर्ष बीत गये पर एक भी बार छुट्टी नहीं ली उन्होंने। पर एक बार इतना आवश्यक कार्य आन पड़ा कि मजबूर होकर एक माह की छुट्टी लेनी ही पड़ गई। पर यही चिन्ता खाये जा रही थी उन्हें कि मेरे छुट्टी में जाने पर कैसे चलेगा। उनकी चिन्ता देखकर उनके असिस्टेंट ने उन्हें विश्वास दिलाया कि मैं सब कुछ सम्हाल लूँगा, आप निश्चिन्त हो कर छुट्टी में जायें।

एक माह की छुट्टी के बाद आते ही ब्रह्मा जी सुपर कम्प्यूटर खोल कर बैठ गये और निरीक्षण करने लगे कि सब कुछ ठीक हुआ है या नहीं। उनका असिस्टेंट उनके पास ही बैठा था।

सहसा ब्रह्मा जी अपने असिस्टेंट को सम्बोधित कर के बोल उठे, "अरे तूने ये क्या किया? इस एक माह में तूने जितने मनुष्य बनाये हैं उन्हें दिमाग तो तूने दिया ही नहीं।"

असिस्टेंट ने सर खुजाते हुए स्वीकार किया, "हाँ, ये गलती तो हो गई।"

"पर अब क्या होगा?"

"ऐसा करते हैं कि इन लोगों के लिये यहाँ से दिमाग ट्रांसमिट कर देते हैं।"

"पर यहाँ से ट्रांसमिट किया हुआ दिमाग उन्हें मिलेगा कैसे?"

"तो उसके लिये उन्हें एक एक एंटीना दे देते हैं!"

"और किसी के एंटीना ने ज्यादा दिमाग रिसीव्ह कर लिया तो?"

"तो इसके लिये उन्हें एक एक अर्थिंग भी दे देते हैं!"

बुरा ना मानो होली है!

17 comments:

डॉ टी एस दराल said...

होली का हुडदंग
हुडदंग में रंग
रंगों में उमंग
उमंगों की बौछार

मुबारक हो आपको
होली का त्यौहार ।

ललित शर्मा said...

होली की बधाई,
कल दो लगाई,
कोई बात नही,
आज तीन से काम चलाई,


होली की पुन: बधाई

Suman said...

आप और आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ...nice

राज भाटिय़ा said...

आप और आप के परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएं ओर बधाई जी

MUMBAI TIGER मुम्बई टाईगर said...

जब कोई बात बिगड़ जाए
जब कोई मुश्किल पड़ जाए तो
तो होठ घुमा सिटी बजा सिटी बजा के
बोल भैया "आल इज वेल"
हेपी होली .
जीवन में खुशिया लाती है होली
दिल से दिल मिलाती है होली
♥ ♥ ♥ ♥
आभार/ मगल भावनाऐ

महावीर

हे! प्रभु यह तेरापन्थ
मुम्बई-टाईगर

ब्लॉग चर्चा मुन्ना भाई की
द फोटू गैलेरी
महाप्रेम
माई ब्लोग
SELECTION & COLLECTION

महेन्द्र मिश्र said...

चलिए मै भी तिपया लेता हूँ . . रंगोत्सव पर्व की हार्दिक शुभकामनाये .

अविनाश वाचस्पति said...

होली में
कोली भर लो
भाई।

अजय कुमार झा said...

इससे बेहतर आज क्या टीपें जी कि होली की आप सबको बहुत बहुत बधाई हो
अजय कुमार झा

खुशदीप सहगल said...

अवधिया जी,
लगता है सारे ब्लॉगर भी उसी टाइम की पैदाइश हैं जब ब्रह्मा जी एक महीने की छुट्टी पर गए थे...

आपको और आपके परिवार को रंगोत्सव की बहुत-बहुत बधाई...

जय हिंद...

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari said...

आपको होली की हार्दिक शुभकामनाये.

फाग सुने बर तरसत हे चोला गुरुदेव .....

Anonymous said...

क्या सोच कर आए थे?
सरदार खुस होगा
सबासी देगा?
क्य्यों

हा हा हा

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

आजकल वैसे भी दुकानदारी(ब्लागिंग) में मन्दे के दिन चल रहे हैं :-)
आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाऎँ!!!!

शरद कोकास said...

मै पोस्ट के नीचे लगी पाबला जी की फोटो का मतलब समझने के लिये अब तक दिमाग लगा रहा हूँ ।

Vivek Rastogi said...

बहुत बढ़िया, चौक्का मारा है..

होली की शुभकामनाएँ ।

श्याम कोरी 'उदय' said...

...होली की लख-लख बधाईंया व शुभकामनाएं !!

राजकुमार ग्वालानी said...

होली में डाले प्यार के ऐसे रंग
देख के सारी दुनिया हो जाए दंग
रहे हम सभी भाई-चारे के संग
करें न कभी किसी बात पर जंग
आओ मिलकर खाएं प्यार की भंग
और खेले सबसे साथ प्यार के रंग

दीपक 'मशाल' said...

इस बार रंग लगाना तो.. ऐसा रंग लगाना.. के ताउम्र ना छूटे..
ना हिन्दू पहिचाना जाये ना मुसलमाँ.. ऐसा रंग लगाना..
लहू का रंग तो अन्दर ही रह जाता है.. जब तक पहचाना जाये सड़कों पे बह जाता है..
कोई बाहर का पक्का रंग लगाना..
के बस इंसां पहचाना जाये.. ना हिन्दू पहचाना जाये..
ना मुसलमाँ पहचाना जाये.. बस इंसां पहचाना जाये..
इस बार.. ऐसा रंग लगाना...

होली की उतनी शुभ कामनाएं जितनी मैंने और आपने मिलके भी ना बांटी हों...