Saturday, September 26, 2009

यह तो तय है कि हिन्दी एग्रीगेटर्स का प्रचार होना चाहिए

हिन्दी को आगे लाने के लिए आप सभी कितने उत्साहित हैं यह तो इसी से पता चलता है कि आप लोगों ने मेरे कल के पोस्ट "जरूरत एक हिन्दी ब्लोगर बनाने की नहीं बल्कि एक हिन्दी पाठक बनाने की है" में इतनी अधिक रुचि दिखाई। आप सभी लोगों को मेरे पोस्ट में रुचि दिखाने और टिप्पणियों के द्वारा अपने विचार प्रदर्शित करने के लिए धन्यवाद!

आप सभी के उत्साह को देखते हुए मुझे विश्वास हो गया है कि यथाशीघ्र नेट में हिन्दी छा जायेगी।

संजीव तिवारी जी के कथन से मैं पूर्णतः सहमत हूँ कि "हिन्दी एग्रीगेटर्स का प्रचार किया जाए"। प्रचार करने के कुछ तरीके मुझे सूझे हैं जिनको बताना ही मेरे इस पोस्ट का उद्देश्य है।

याहू चैट, याहू समूह और ऑर्कुट वे स्थान हैं जहाँ हमारे हिन्दीभाषी मित्र बहुतायत से पाए जाते हैं। तो क्यों न हम इन्हीं स्थानों में ब्लोगवाणी, चिट्ठाजगत आदि अपने हिन्दी एग्रीगेटर्स का प्रचार करें।

याहू चैटः हम ब्लोगर्स में से अधिकतर साथी चैट तो करते ही होंगे। तो हमें याहू चैट के चैट रूम्स में एक के बाद एक जाना है और नीचे स्नैपशॉट में दर्शाए गए संदेश जैसा कोई आकर्षक संदेश बना कर चैट रूम के मुख्य विंडो में भेज देना है ताकि चैट रूम में उपस्थित सारे सदस्यों को वह संदेश मुख्य विंडो में नजर आने लगे।

याहू समूहः याहू समूहों की काफी लोकप्रियता है और हमारे बहुत से लोग अनेकों समूहों के सदस्य हैं। हम भी ऐसे समूहों के सदस्य बन कर वहाँ एग्रीगेटर्स के विषय में संदेश देना है और साथ ही समूह में अपने एग्रीगेटर्स के लिंक डाल देना है। लिंक डालने के लिए समूह के मीनू में लिंक्स को क्लिक कर देना है। उसके बाद वहा दिए गए निर्देशों के अनुसार लिंक्स डाल देना है। इस प्रकार से हमारे एग्रीगेटर्स के लिंक्स वहाँ हमेशा के लिए रह जायेंगे।

ऑर्कुटः ऑर्कुट के विषय में बहुत अधिक बताने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप सभी इसके बारे में अच्छी तरह से जानते हैं। करना सिर्फ यह है कि वहाँ जितने भी अधिक मित्र बन सकें बनाना है और एग्रीगेटर्स के विषय में एक संदेश बना कर एक ही क्लिक से सभी मित्रों को एक बार में ही संदेश भेज देना है।

युवा वर्ग किसी युवा से अपेक्षाकृत अधिक प्रभावित होते हैं बनिस्बत के किसी प्रौढ़ या वृद्ध व्यक्ति के। अतः मेरी अपेक्षा आप लोग इस कार्य को अधिक प्रभावशाली ढंग से तथा सफलतापूर्वक कर सकेंगे।

जै हिन्दी!

हिन्दी ब्लोग जगत अमर हो!!
Post a Comment