Thursday, January 14, 2010

क्या आप जीमेल का प्रयोग करते हैं? ... तो उसका बेहतर प्रयोग करें ना!

क्या आप जीमेल का प्रयोग करते हैं? यदि आपका उत्तर "हाँ" में है तो क्या आप जानते हैं कि जीमेल का बेहतर प्रयोग कैसे किया जा सकता है?

जीमेल में आपके लिये बहुत सारी सुविधाएँ उपलब्ध हैं। आइये देखें कि जीमेल की सुविधाओं का प्रयोग करके कैसे जीमेल का बेहतर प्रयोग किया जा सकता है।

सितारे stars का प्रयोग करें: यदि कोई मेल आपके लिये विशेष है और बार

बार उस मेल को आपको खोलना है तो उसके लिये आप उस सितारे का प्रयोग कर सकते हैं। इससे आपको उस मेल को खोजने की जहमत बच जायेगी। स्टार प्रयोग करने के लिये बस आपको मेल के आगे बने सितारे को मात्र क्लिक कर देना है जिससे सफेद रंग का सितारे का चिह्न रंगीन हो जायेगा और वह मेल स्टार्ड फोल्डर में पहुँच जायेगी।

मेल का जवाब चैट से दें: किसी मेल का जवाब देने से पहले उसके फूटर तक स्क्रोल कर के देख लें कि क्या मेल भेजने वाला उस समय ऑनलाइन है। यदि वह उस समय ऑनलाइन रहे तो आप मेल का जवाब उससे चैटिंग कर के दे सकते हैं। इससे आपके बहुमूल्य समय की बचत होगी।

लेबल्स का प्रयोग करें: लेबल्स का प्रयोग करके आप अपने मेल सन्देशों को वर्गीकृत करके व्यवस्थित कर सकते हैं। इससे विशेष वर्ग याने कि लेबल्स वाले मेल तक आप बहुत ही आसानी के साथ पहुँच सकते हैं।

"Move to" का प्रयोग करें: मेलबॉक्स को साफ सुथरा रखने के लिये आप "Move to" क प्रयोग करके किसी भी मेल को किसी भी फोल्डर में पहुँचा सकते हैं।

सर्चबॉक्स का प्रयोग करें: किसी मेल को खोजने के लिये आप जीमेल में दिये गये सर्चबॉक्स का प्रयोग कर सकते हैं।

आर्चिव्हस का प्रयोग करें: ऐसे मेल को जिन्हें कि आप समझते हैं कि वर्तमान में इनका उपयोग नहीं है किन्तु भविष्य में शायद काम के हों में डाल दें। इससे मेल डिलीट भी नहीं होगा और आपका मेलबॉक्स साफ सुथरा रहेगा। आर्चिव्हस में डाले गये मेंल आपको "All Mail" फोल्डर में मिल जायेंगे।


थीम्स का प्रयोग करें: अपने जीमेल को सुन्दर बनाने के लिये थीम्स का प्रयोग करें। इसके लिये सेटिंग्स|थीम्स में जाकर पसंदीदा थीम का चयन कर लें।

23 comments:

दिनेशराय द्विवेदी said...

अब तक आर्चीव्स के अलावा सारे प्रयोग किए हैं।

डॉ. मनोज मिश्र said...

jankaree kam kee hai,dhnyavaad.

Randhir Singh Suman said...

nice

Udan Tashtari said...

आज जी टिप्स पढ़ रहा था...काम की जानकारी.

संगीता पुरी said...

कुछ का प्रयोग मैं किया करती थी .. कुछ का आगे से किया करूंगी !!

ब्लॉ.ललित शर्मा said...

बहुत बढिया जानकारी-अवधिया जी
सकरायत के गाड़ा गाड़ा बधई

Anil Pusadkar said...

अवधिया जी अब तो आप मुझे अपना चेला बना लिजीये ये सब तो अपने ध्यान मे आता ही है।

आपको संक्रांति की बहुत बहुत बधाई।

पी.सी.गोदियाल "परचेत" said...

यूँ तो यह सब करते ही रहते है लेकिन जानकारी काफी लोगो के लिए महत्वपूर्ण है अवधिया साहब !

उम्दा सोच said...

अतिउपयोगी ज्ञानवर्धन हेतु आभार !

अन्तर सोहिल said...

बडे काम की जानकारी दी है जी आपने, शुक्रिया

प्रणाम स्वीकार करें

Unknown said...

@ Udan Tashtari

"आज जी टिप्स पढ़ रहा था..."

फिर तो आपको इस पोस्ट को पढ़ने की जरूरत ही नहीं हुई होगी, सीधे टिप्पणी किया होगा।

मैं समझता हूँ कि बहुत से लोगों ने जी टिप्स नहीं पढ़ा हुआ होगा।

यदि जी टिप्स का हिन्दी अनुवाद आ गया तो कुछ बुरा हो गया क्या?

Pt. D.K. Sharma "Vatsa" said...

काम की जानकारी.....हमने तो इनमें से आज तक किसी का भी प्रयोग नहीं किया...अब से कर के देखते हैं!

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर जानकारी, वेसे मै इन सब का प्रयोग पहले से करता आ रहा हुं.ोर भी बहुत सी सहुलियत है ग मेल मे
धन्यवाद

Murari Ki Kocktail said...

achchi jaankaari di

विवेक रस्तोगी said...

हम तो पहले से ही इन सबका प्रयोग कर रहे हैं और भी बहुत सारी सुविधाएँ हैं, जिनका हम उपयोग कर रहे हैं।

naresh singh said...

आपने जो महत्वपूर्ण जानकारी दी उसके लिए धन्यवाद |

Rajat Yadav said...

समयाभाव में हमने यह सब कभी नहीं किया, पर धन्यवाद आपका इस और ध्यान आकृष्ट करवाने के लिए.

आपको संक्रांति की बहुत बहुत बधाई।

डॉ टी एस दराल said...

बढ़िया जानकारी अवधिया जी।
आभार।

ज्ञान said...

क्या कोई ज्ञानी बता सकता है कि चिट्ठाचर्चा पर की इस टिप्पणी में ऐसा क्या था जो इसे रोक रखा गया है?
http://murakhkagyan.blogspot.com/2010/01/blog-post.html

SUNIL DWIVEDI said...

shandar jankari k liya thanks
suni d

वाणी गीत said...

कुछ नयी जानकारी मिली ...आभार ...!!

डॉ महेश सिन्हा said...

जानकारी में बढ़ोत्री के लिए धन्यवाद

NIRANJAN JAIN said...

accha laga